Wednesday, July 24, 2024
spot_img
HomeCrimeपुणे में चाचा से करोड़ों की जमीन विवाद, इंदौर में युवक पर...

पुणे में चाचा से करोड़ों की जमीन विवाद, इंदौर में युवक पर चलाई गोली

पुलिस के अनुसार जान से मारने की मंशा से युवक पर गोली चलाई गई थी। गोली युवक की जांघ में लगी। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर उनसे दो पिस्‍टल भी जब्‍त की है। युवक की हालत खतरे से बाहर बताई गई है।

पुणे से महाकाल मंदिर दर्शन के लिए जाते समय एक युवक पर मल्हारगंज थाना क्षेत्र में गुरुवार सुबह गोली चलाकर हमला किया गया।

युवक पर यह हमला पुणे में करोड़ों के जमीन विवाद के चलते किया गया था। युवक पर जान से मारने की नीयत से गोली चलाई थी।

गनीमत रही कि उसने आरोपित का हाथ नीचे कर दिया और गोली जांघ में जा लगी। पुलिस ने गोली चलाने वाले आरोपित सिध्दार्थ निमाड़कर और शैलेश साबले को उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से 2 पिस्टल भी जब्त की है।

पुलिस के अनुसार गणेश मोहिते सुबह अंतिम चौराहे पर कार में दोस्त तेजस के साथ बैठकर नाश्ता कर रहा था। तभी एक आरोपित कार से उतरकर आया और उसने गणेश के ऊपर गोली चला दी थी।

गणेश की हालत अभी खतरे से बाहर हैं। आरोपितों की पहचान के लिए डीसीपी विनोद कुमार मीणा ने टीम बनाई। घायल से पूछताछ में पता चला कि कोई कार उनका पीछा कर रही थी।

वह भी महाराष्ट्र पासिंग ही थी। इसके बाद आसपास लगे सीसीटीवी खंगाले और कार के नंबर पता किए। इसके बाद कार को पकड़ा।

गणेश और चाचा संतोष के बीच पुणे के खेड़शिवापुर में 40-50 एकड़ जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। यह जमीन सुपर कारिडोर के पास है। इसलिए इसकी कीमत भी करोड़ों में हैं।

चाचा संतोष ने गणेश को जान से मारने के लिए सिध्दार्थ और शैलेश को 20 लाख रुपये में सुपारी दी। इसके लिए पांच लाख रुपये दोनों को एडवांस भी दे दिए थे।

इसमें से एक आरोपित ड्राइवर है और अन्य सब्जी का ठेला लगाता है। संतोष ठेकेदार है, वह सड़क निर्माण का काम भी करता है। काम के सिलसिले में दोनों आरोपित उसके पास गए थे। तभी उन्हें लालच देकर सुपारी दी। पुलिस की एक टीम संतोष को पकड़ने के लिए पुणे रवाना हो गई है।

आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि वह पुणे से ही गणेश का पीछा करते हुए आ रहे थे। सबसे पहले गणेश को शिर्डी में मारने का प्रयास किया था, लेकिन विफल हो गए।

इसके बाद रास्तेभर मौका ढूंढते आए कि कहां इसे मारना है। इंदौर में मौका मिला तो एक आरोपित कार से उतरा और कांच से बंदूक डालकर चलाने लगा, लेकिन गणेश ने उसका हाथ नीचे कर दिया।

इससे गोली जांघ में लगी। गोली चलाने के बाद आरोपित पहले बिजासन मंदिर गए और वहां से उज्जैन दर्शन के लिए गए। रात में पुणे के लिए निकलने वाले थे, तभी पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

गोली चलाने की घटना के बाद डीसीपी ने टीम बनाकर आरोपितों की तलाश में जुटाया। घटना स्थल के सीसीटीवी कैमरे खंगाले, उसमें कार का नंबर पता चला।

पुलिस ने धुले जिले में कार रुकवाई। कार चालक से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह किराए से कार चलाता है। गोली चलाने के बाद आरोपितों ने उसके सिर पर भी बंदूक रखी।

बिजासन माता मंदिर तक कार में बैठकर गए और वहां से मुझे जाने के लिए कहां। पुलिस को कार चालक के पास से आरोपितों के पहचान पत्र मिल गए थे।

इसके बाद पुलिस ने आरोपितों के मोबाइल ट्रैस किए। इसमें लोकेशन उज्जैन की आ रही थी। टीम तुरंत उज्जैन पहुंची, वहां आरोपितों को पकड़ा। पुलिस को देख आरोपितों ने भागने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने दौड़ लगाकर उन्हें पकड़ लिया।

SourceNaidunia
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments