Wednesday, July 24, 2024
spot_img
HomeUncategorizedमहाराष्‍ट्र के कई हिस्‍सों में भारी बारिश से बिगड़े हालात... मुंबई बनी...

महाराष्‍ट्र के कई हिस्‍सों में भारी बारिश से बिगड़े हालात… मुंबई बनी दरिया, सड़कें जलमग्‍न

महाराष्ट्र में जमकर बरस रहे मेघ लोगों के लिए समस्या खड़ी कर रहे हैं। रातभर से जारी भारी बारिश के कारण हुए जलजमाव से गाड़ियां फंस गईं। साथ ही लोगों के घरों में भी पानी घुस गया। मौसम विभाग ने महाराष्ट्र के कुछ क्षेत्रों में भारी से अति भारी बारिश का अनुमान जताया है।

देश में हो रही मानसूनी बारिश कुछ राज्यों में आफत बनती जा रही है। महाराष्ट्र में भारी बारिश के कारण हालत खराब हो गए हैं। इसका असर जनजीवन पर पड़ रहा है। साथ ही लोकल ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुई।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, मुंबई उपनगरीय और हार्बर लाइन पर भारी बारिश के कारण जलभराव हो गया। इससे स्टेशन छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, कुर्ला-विक्रोली और भांडुप से गुजरने वाली कई ट्रेन प्रभावित हुई। साथ ही मुंबई में पटरियां जलमग्न हो गई।

रेलवे विभाग के अनुसार, भारी बारिश के कारण मध्य रेलवे की उपनगरीय सेवाएं प्रभावित हुई हैं। सायन, भांडुप और नाहुर स्टेशनों के बीच ट्रेन सेवाएं प्रभावित हैं। बारिश का पानी पटरियों के ऊपर था इसलिए ट्रेनों को लगभग एक घंटे तक रोका गया, अब पानी थोड़ा कम हुआ है इसलिए ट्रेनें फिर से शुरू हो रही हैं, लेकिन सेवाएं अभी भी प्रभावित हैं।

मुंबई में भारी बारिश के कारण शहर के कई हिस्सों में जलभराव देखा गया। इसके साथ ही परेल, वर्ली सहित किंग सर्कल क्षेत्र में भी सड़कें जलमग्न हो गई, जिसके चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कुछ क्षेत्रों में पेड़ गिरने से सड़कें ब्‍लॉक हो गई, जिससे आवागमन बाधित हुआ।

उत्तराखंड में भी भारी बारिश मुसीबत का सबब बनते जा रही है। देहरादून में हुई भारी बारिश के साथ जलजमाव की स्थिति देखने को मिली। राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र ने अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, नैनीताल, पिथौरागढ़, ऊधमसिंह नगर, पौड़ी, चमोली और रुद्रप्रयाग के कुछ क्षेत्रों में अत्यंत भारी बारिश का अनुमान जताया है।

उत्‍तराखंड में बारिश के साथ साथ कुछ स्‍थानों पर भूस्‍खलन की घटनाएं भी सामने आई है। इससे बदरीनाथ हाईवे समेत 142 मार्ग बंद हो गए। हालांकि, सरकार ने इसमें से 89 मार्ग पर यातायात बहाल कर दिया, लेकिन 109 मार्ग अब भी ब्‍लॉक है।

राज्‍य में पिथौरागढ़ के धारचूला में काली नदी खतरे के निशान से 0.90 मीटर ऊपर बह रही है। इसके साथ ही रुद्रप्रयाग में अलकनंदा और मंदाकिनी नदी भी खबतरे के निशान से ऊपर है। चमोली में अलकनंदा पिंडर, धौली गंगा, नंदाकिनी नदी की भी यही स्थिति है।

SourceNaidunia
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments